ताजमहल

Updated: Jul 22, 2021


तू मेरे दिल में बसी है किसी ग़ज़ल की तरह

खिली है तेरी हंसी किसी कंवल की तरह

तुम मेरे दिल के पास आकर तो देखो

लोग याद रखेंगे तुम्हें ताजमहल की तरह

सुबह से शाम तेरी याद में डूबा सा में रहता हूं

अब तलक नहीं कहा पर आज मैं कहता हूं

तेरा चेहरा दिल में बसा है हंसी महल की तरह


तू मेरे दिल में बसी है किसी ग़ज़ल की तरह



तेरी नजर हमेशा मुझसे कुछ कहती है

तू मान या ना मान तू मेरे दिल में रहती है

Illustration Courtesy:https://in.pinterest.com/pin/

तेरा चेहरा याद रखता हूं मैं आठों पहर की तरह


तू मेरे दिल में बसी है किसी ग़जल की तरह

26 views0 comments

Recent Posts

See All